13.7 C
New York
April 12, 2024
Nation Issue
राजनीति

RSS की रिपोर्ट के बाद अब डैमेज कंट्रोल में जुटी बीजेपी, असंतुष्टों को साधने पर फोकस

भोपाल

चुनाव से पहले बीजेपी में असंतुष्टों की नाराजगी और उपेक्षा को लेकर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ और इंटेलिजेंस की रिपोर्ट के बाद अब इसके डैमेज कंट्रोल में बीजेपी जुट गई है। इसके लिए प्रभारी मंत्रियों को एक हफ्ते में जिलों में पहुंचकर संघ के स्थानीय पदाधिकारियों के साथ समन्वय बैठकें कर नाराज लोगों को साधने के लिए कहा गया है। कई मंत्री इसी के चलते लाड़ली लक्ष्मी उत्सव के सरकारी कार्यक्रम के बहाने जिलों में पहुंचने वाले हैं जहां वे पार्टी और संघ नेताओं के साथ बैठक करेंगे।

इंदौर में पिछले माह हुई संघ की बैठक में बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं और पूर्व जनप्रतिनिधियों में असंतोष को लेकर बात सामने आई थी। संघ ने अपनी रिपोर्ट के आधार पर पार्टी नेताओं को इससे अवगत कराते हुए नाराज लोगों को साधने के लिए कहा था। इसके बाद बीजेपी ने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को जिलों में भेजकर असंतुष्टों से संवाद करने और उनकी दिक्कतें जानने के लिए भेजा था। इस रिपोर्ट में भी असंतोष और नाराजगी की बात सामने आई जिस पर कोर कमेटी की बैठक में मंथन हुआ। फिर सभी सांसदों, विधायकों और जिला अध्यक्षों को भोपाल तलब करने के बाद अब प्रभारी मंत्रियों को जिलों में जाने के लिए कहा गया है। प्रभारी मंत्री जिलों में पहुंचकर जिला अध्यक्षों, संघ के स्थानीय पदाधिकारियों और अन्य नेताओं के साथ समन्वय बैठक करेंगे और आगे की रणनीति पर मंथन करेंगे।

दीपक जोशी दे चुके हैं बगावत के संकेत
इधर हाट पिपल्या से पूर्व विधायक और पूर्व सीएम कैलाश जोशी के बेटे दीपक जोशी बगावत के संकेत दे चुके हैं। उन्होंने साफ तौर पर कहा है कि उनके विकल्प खुले हैं। कांग्रेस और अन्य दल उनके संपर्क में हैं। वे कुछ भी फैसला आने वाले दिनों में ले सकते हैं। पूर्व मंत्री जोशी का कहना है कि हालात बुरे हैं। किसी की कोई सुनवाई नहीं हो रही है। धरने पर बैठकर समस्या के निराकरण के लिए आंदोलन करना पड़ रहा है। सूत्रों का कहना है कि कुछ अन्य वरिष्ठ नेता भी दूसरे दलों के संपर्क में हैं।

कोर ग्रुप की बैठक भी करेंगे प्रभारी मंत्री
प्रभारी मंत्रियों को जिलों में प्रवास के दौरान संघ और भाजपा नेताओं के साथ समन्वय बैठक करने के साथ कोर ग्रुप की बैठकें करने के लिए भी कहा गया है। पिछले दिनों प्रदेश कार्यालय में इसको लेकर दिए गए निर्देश के बाद जबलपुर के प्रभारी मंत्री गोपाल भार्गव, बैतूल के प्रभारी मंत्री इंदर सिंह परमार समेत कई मंत्रियों ने जिलों में बैठकें की हैं वहीं कटनी के प्रभारी मंत्री जगदीश देवड़ा आज बैठक के लिए पहुंचे हैं।

 

Related posts

अधीर रंजन चौधरी बोले -जम्मू-कश्मीर में जल्द चुनाव कराना चाहिए

admin

तीन बार चुनाव हारने वाले व उनके परिजनों को भी पार्टी टिकट नहीं देगी : कांग्रेस

admin

प्रदेश में BJP ने बदलीं रणनीति BJP में स्थितियां, राव अब ले रहे फीडबैक

admin

Leave a Comment