13.7 C
New York
April 12, 2024
Nation Issue
भोपाल मध्य प्रदेश

म. प्र. में हो रहा रिसर्च आधारित योजना बनाने, मॉनीटरिंग और मूल्यांकन का कार्य

भारत के नीति आयोग ने की सराहना
पी.एच.डी. संगोष्ठी के समापन में एग्पा के सीईओ स्वतंत्र सिंह

भोपाल

मध्यप्रदेश में रिसर्च आधारित पॉलिसी और योजनाएँ बनायी जा रही हैं। साथ ही रिसर्च के आधार पर ही योजनाओं की मॉनीटरिंग और उनका मूल्यांकन भी किया जा रहा है। यह कार्य राज्य नीति आयोग और अटल बिहारी वाजपेयी सुशासन एवं नीति विश्लेषण संस्थान मिल कर कर रहे हैं। इसके लिए स्टेट इंस्टीटयूट फॉर ट्रांसफार्मेशन बनाया गया है। इसकी सराहना केन्द्रीय नीति आयोग ने भी की है। अटल बिहारी वाजपेयी सुशासन एवं नीति विश्लेषण संस्थान के सीईओ स्वतंत्र सिंह ने यह बात दो दिवसीय पीएचडी संगोष्ठी के समापन कार्यक्रम में कही।

सिंह ने बताया कि उन्होंने मध्यप्रदेश में किये जा रहे कार्यों का प्रेजेंटेशन सिविल सर्विस-डे विज्ञान भवन नई दिल्ली में किया था। सिंह ने कहा कि विकसित भारत की कल्पना को मूर्तरूप देने में रिसर्चर की महत्वपूर्ण भूमिका होगी। आपके रिसर्च के इनपुट से प्रदेश और देश के विकास की योजनाएँ बनायी जा सकेंगी।

साँची युनीवर्सिटी ऑफ बुद्धिस्ट इंडिक स्टडीज की वाइस चांसलर डॉ. श्रीमती नीरजा ए. गुप्ता ने कहा कि भारत में इंटीग्रेटेड लर्निंग सिस्टम है। उन्होंने विभिन्न पौराणिक कथाओं का उल्लेख करते हुए कहा कि रिसर्च का महत्व है, डिग्री का नहीं। श्रीमती गुप्ता ने कहा कि शास्त्र हमें आगे बढ़ने का ज्ञान देते हैं। इनमें उल्लेखित हर विषय पर रिसर्च किया जा सकता है। उन्होंने नाटय शास्त्र के बारे में भी बताया।

फूड कमीशन ऑफ मध्यप्रदेश के चेयरमेन प्रो. वी.के. मल्होत्रा ने कहा कि इस तरह की संगोष्ठी लगातार होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश राहजिंग स्टेट है। रिसर्च के माध्यम से प्रदेश में पॉलिसी बनाने का काम हो रहा है। संस्थान के प्रमुख सलाहकार सुनील सूर्यवंशी ने बताया कि संगोष्ठी में 25 जिलों के 38 संस्थानों के 151 पीएचडी स्कॉलर शामिल हुए।

पीएचडी स्कॉलर्स ने भी अपने अनुभव साझा किये। इस दौरान बेहतर प्रेजेंटेशन देने वाले शोधार्थी पुरस्कृत किये गये। पुरस्कृत शोधार्थियों में सुप्रीत‍सिंह, सुमेघा भार्गव, अर्जुन सिंह लोधी, दिलीप चक्रवर्ती, राकेश कुमार अहिरवार, रजत यादव, सुस्मृति पंजवानी, सुकात्यायनी शुक्ला, सुप्रियांशी सिंह, उदित साहू, सुरिद्धी जैन, राहुल, सुदीक्षा दुबे, सुदीक्षा श्रीवास्तव, सुअमृता वाजपेयी, सुमेघा सुंदर जी, कल्पित डोंगरे और सुनीरजा गोड शामिल हैं। राजीव भाटिया को विशेष पुरस्कार दिया गया।

 

Related posts

जांच दल ने भवन, सड़क निर्माण के काम को घटिया पाया, मिली कमियां

admin

चीते “तेजस” की मृत्यु

admin

पुलिसकर्मियों को सोमवार से साप्ताहिक अवकाश, हर दिन सात हजार का बल रहेगा अवकाश पर

admin

Leave a Comment