23.4 C
New York
May 26, 2024
Nation Issue
राजनीति

NCP के प्रदेश अध्यक्ष जयंत पाटिल नाखुश, जानें- क्यों?

मुंबई

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद पवार के पद से इस्तीफे के ऐलान के बाद से पार्टी में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। एनसीपी नेताओं के एक समूह में एक अजीब सी बेचैनी है, जो अब पार्टी में अपने भविष्य के बारे में अनिश्चित हैं। इस बीच, एनसीपी के प्रदेश अध्यक्ष जयंत पाटिल ने मीडिया में आई उन खबरों पर नाराजगी जाहिर की कि बुधवार को मुंबई में एनसीपी नेताओं की एक बैठक थी, जिसमें उन्हें नहीं बुलाया गया था।

जयंत पाटिल बुधवार को किसी निजी काम से पुणे में थे। उन्होंने पार्टी नेताओं की मीटिंग की पुष्टि करने के बजाय, कहा कि पार्टी ने उन्हें उन्हें इस बैठक के बारे में कोई जानकारी नहीं दी। उन्होंने उनकी अनुपस्थिति में बैठक आयोजित करने पर नाराजगी भी व्यक्त की। मीडिया से उन्होंने तत्काल प्रतिक्रिया में कहा, "मुझे नहीं पता कि आज एक बैठक थी।" उन्होंने  कहा, "मुझे किसी ने नहीं बताया था। मैं एक निर्धारित बैठक के लिए सुबह पुणे आया था, और मैं वापस मुंबई जाऊंगा।"

पाटिल ने कहा कि हर कोई चाहता है कि पवार अपना इस्तीफा वापस ले लें। उन्होंने कहा, "कई लोग मुझे फोन कर रहे हैं कि क्या हो रहा है लेकिन मुझे नहीं पता कि सुप्रिया सुले के नाम (पद के लिए संभावित उम्मीदवारी) के बारे में क्या चर्चा हुई। मेरे सामने इस तरह की कोई चर्चा नहीं हुई है। मैं राष्ट्रीय स्तर का कार्यकर्ता नहीं हूं, इसलिए मुझे नहीं पता कि राष्ट्रीय मामलों से संबंधित मुद्दों के लिए क्या प्रावधान हैं।”

पाटिल के भड़कने के तुरंत बाद, सुप्रिया सुले ने उन्हें फोन करके सूचित किया कि कोई बैठक नहीं बुलाई गई है, और पार्टी के नेता स्वयं वाई बी चव्हाण केंद्र में एकत्र हुए हैं। बाद में पाटिल ने भी इस पर सफाई दी और कहा कि मुंबई में कोई बैठक नहीं बुलाई गई है।

जयंत पाटिल ने बुधवार को कहा कि वह उन कई लोगों में शामिल हैं, जो “पवार साहब” के नेतृत्व से प्रेरित होकर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी में शामिल हुए थे। पवार ने मंगलवार को ही घोषणा की थी कि वह राकांपा प्रमुख का पद छोड़ेंगे। यह पूछे जाने पर कि क्या वह राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में पवार की बेटी सुप्रिया सुले के अधीन काम करेंगे क्योंकि शीर्ष पद के लिए उनके नाम की चर्चा चल रही है, पाटिल ने कहा कि पार्टी जो भी फैसला लेती है, उसे सभी को स्वीकार करना होगा।

       

Related posts

कर्नाटक में बीजेपी को ये गलतियां पड़ीं भारी, हार के 6 प्रमुख कारण

admin

असम के 17 जिलों से गुजरेगी राहुल गांधी की ‘भारत जोड़ो न्याय यात्रा’

admin

चुनावों की घोषणा के साथ ही नड्डा ने पांचों राज्यों में भाजपा की सरकार बनने का किया दावा

admin

Leave a Comment