10.6 C
New York
April 19, 2024
Nation Issue
विदेश

रूस ने खारसेन के रेलवे स्टेशन-सुपरमार्केट पर किया हमला, 21 की मौत

खारसेन
रूस ने बुधवार को यूक्रेन के खारसेन में जमकर बमबारी की. यूक्रेन की मीडिया के मुताबिक, ये हमले खारसेन में रेलवे स्टेशन और सुपरमार्केट पर हुए. इन हमलों में 21 लोगों की मौत हो गई. जबकि 48 लोग घायल हुए हैं. खारसेन में ये हमले ऐसे वक्त पर हुए, जब यूक्रेन पर रूस ने राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन पर जानलेवा हमला करने का आरोप लगाया है. ऐसे में रूस की ओर से किए गए इन हमलों को बदले के तौर पर देखा जा रहा है.
 
रूस और यूक्रेन के बीच पिछले साल फरवरी से युद्ध जारी है. इस युद्ध के चलते यूक्रेन में भारी तबाही मची है. इसी बीच बुधवार को रूस ने दावा कियाी था कि  पुतिन को जान से मारने के लिए क्रेमलिन पर ड्रोन से हमले किए गए. इसके लिए रूस ने सीधे तौर पर यूक्रेन को जिम्मेदार ठहराया था.

रूस का कहना है कि क्रेमलिन पर दो फाइटर ड्रोन से अटैक किया गया था. इन दोनों ड्रोन का मकसद क्रेमलिन की उस इमारत को निशाना बनाना था, जहां राष्ट्रपति पुतिन रहते हैं. इसी परिसर में रूस की संसद भी है.

जानकारी के मुताबिक, रूस के रडार वारफेयर सिस्टम ने इन दोनों ड्रोन को उस समय टारगेट किया, जब ये क्रेमलिन परिसर के ठीक ऊपर पहुंच गए थे. इस दौरान इन दोनों ड्रोन पर स्ट्राइक की गई, जिससे ये क्रैश होकर रूसी पार्लियामेंट की इमारत पर क्रैश हो गए. सीनेट की इसी बिल्डिंग से पुतिन का ग्रैंड क्रेमलिन पैलेस महज 300 मीटर की दूरी पर है.

रूस ने आधिकारिक तौर पर कहा है कि पुतिन की हत्या के लिए यूक्रेन ने इन दोनों ड्रोन को भेजा था. ये कोई मामूली ड्रोन नहीं बल्कि फाइटर ड्रोन थे. दरअसल फाइटर ड्रोन उन ड्रोन्स को कहते हैं, जो खतरनाक मिसाइल या फिर दूसरे एक्सप्लोसिव डिवाइस से लैस होते हैं. इनमें ऐसे ब्लेड्स लगे होते हैं, जो टारगेट को आसानी से खत्म कर सकते हैं. हालांकि, हमले में इस्तेमाल हुए ड्रोन को लेकर अभी तक कोई जानकारी सामने नहीं आई है. रूस ने अभी तक सिर्फ यही बताया है कि जिन ड्रोन को नष्ट किया गया था. वे दोनों फाइटर ड्रोन थे.

हमले की 2 थ्योरी आईं सामने

इस पूरे मामले को लेकर दो थ्योरी सामने आई हैं. पहली ये कि यूक्रेन ने वाकई रूस के राष्ट्रपति पुतिन की हत्या करने की साजिश रची. इसके लिए दो फाइटर ड्रोन लॉन्च किए गए. इस हमले के पीछे रूस के पास ठोस वजह भी है कि रूस ने उसके 30 फीसदी क्षेत्रफल पर कब्जा किया हुआ है. रूस की वजह से यूक्रेन बीते 434 दिनों से युद्ध लड़ रहा है. इसलिए हो सकता है कि उसने पुतिन को मारने की साजिश रची हो ताकि वह इस युद्ध को जीत सके

वहीं, दूसरी थ्योरी है कि ये हमला खुद रूस ने ही करवाया है ताकि इससे वह यूक्रेन और पश्चिमी देशों पर दबाव बना सके और एक तरह से खुलकर कार्रवाई कर सके. वह किसी भी तरह से यूक्रेन पर जीत दर्ज करना चाहता है.

हो सकता है कि रूस ने खुद ही क्रेमलिन पर हमला कराया हो ताकि दुनिया को यह बताया जा सके कि यूक्रेन पश्चिमी देशों के साथ मिलकर पुतिन की हत्या करना चाहता है. वह इस बात को आधार बनाकर यूक्रेन के खिलाफ बड़े पैमाने पर खुली कार्रवाई करना चाहता है. दरअसल अगर रूस, यूक्रेन पर कोई बड़ा हमला करता है तो यही कहा जाएगा कि यूक्रेन ने पुतिन की हत्या करने की साजिश रची थी और रूस ने एक तरह से बदला लिया है. इस तरह से ये हमला रूस के लिए एक बैकअप की तरह काम करेगा.

Related posts

कनाडा ने इस भारतीय को दिया देश छोड़ने का आदेश, 16 लोगों की मौत का बताया जिम्मेदार

admin

जवाबी कार्रवाई में रूस पर भारी पड़ रहा यूक्रेन, नाटो ने कहा- बातचीत की मेज पर मिलेगा फायदा

admin

इजरायली लोगों की सुरक्षा के लिए पूरे भारत में अलर्ट जारी, प्रमुख जगहों पर चौकसी बढ़ाई गई

admin

Leave a Comment