10.6 C
New York
April 19, 2024
Nation Issue
धर्म एवं ज्योतिष

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार हर सोमवार करें चंद्रशेखर स्तोत्र का पाठ, प्रसन्न होंगे महादेव

हिंदू धर्म में सोमवार का दिन भगवान शिव को अर्पित किया गया है. इस दिन भगवान भोलेनाथ के साथ माता पार्वती और चंद्र देव की पूजा की जाती है. धार्मिक मान्यता है कि भगवान शिव की पूजा करने से व्यक्ति की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं. जीवन में व्याप्त संकट दूर होते हैं. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, चंद्रमा मन का कारक है. चंद्रमा के कमजोर होने से मन अशांत रहता है और व्यक्ति को मानसिक तनाव भी हो सकता है. ऐसे में कुंडली में चंद्रमा की स्थिति मजबूत होना बहुत जरूरी है. यदि आप भी मानसिक पीड़ाओं से गुजर रहे हैं, तो सोमवार के दिन भगवान शिव की पूजा करते समय चंद्रशेखर स्तोत्र का पाठ अवश्य करें. इस पाठ को सोमवार के दिन करने से महादेव प्रसन्न होते हैं, और चंद्र कुंडली में चंद्रमा की स्थिति भी मजबूत होती है.

शिव चन्द्रशेखर अष्टक स्तोत्र

चन्द्रशेखर चन्द्रशेखर चन्द्रशेखर पाहि माम ।

चन्द्रशेखर चन्द्रशेखर चन्द्रशेखर रक्ष माम ॥१॥

रत्नसानुशरासनं रजताद्रिशृङ्गनिकेतनं

सिञ्जिनीकृतपन्नगेश्वरमच्युताननसायकम ।

क्षिप्रदग्धपुरत्रयं त्रिदिवालयैरभिवन्दितं

चन्द्रशेखरमाश्रये मम किं करिष्यति वै यमः ॥२॥

पञ्चपादपपुष्पगन्धपदांबुजद्वयशोभितं

भाललोचनजातपावकदग्धमन्मथविग्रहम ।

भस्मदिग्धकलेबरं भव नाशनं भवमव्ययं

चन्द्रशेखरमाश्रये मम किं करिष्यति वै यमः ॥३॥

मत्तवारणमुख्यचर्मकॄतोत्तरीयमनोहरं

पङ्कजासनपद्मलोचनपूजितांघ्रिसरोरुहम ।

देवसिन्धुतरङ्गसीकर सिक्तशुभ्रजटाधरं

चन्द्रशेखरमाश्रये मम किं करिष्यति वै यमः ॥४॥

यक्षराजसखं भगाक्षहरं भुजङ्गविभूषणं

शैलराजसुतापरिष्कृतचारुवामकलेबरम ।

क्ष्वेडनीलगलं परश्वधधारिणं मृगधारिणं

चन्द्रशेखरमाश्रये मम किं करिष्यति वै यमः ॥५॥

कुण्डलीकृतकुण्डलेश्वर कुण्डलं वृषवाहनं

नारदादिमुनीश्वरस्तुतवैभवं भुवनेश्वरम ।

अन्धकान्तकमाश्रितामरपादपं शमनान्तकं

चन्द्रशेखरमाश्रये मम किं करिष्यति वै यमः ॥६॥

भेषजं भवरोगिणामखिलापदामपहारिणं

दक्षयज्ञविनाशनं त्रिगुणात्मकं त्रिविलोचनम ।

भुक्तिमुक्तिफलप्रदं सकलाघसंघनिबर्हणं

चन्द्रशेखरमाश्रये मम किं करिष्यति वै यमः ॥७॥

भक्तवत्सलमर्चितं निधिक्षयं हरिदंबरं

सर्वभूतपतिं परात्परमप्रमेयमनुत्तमम ।

सोमवारिदभूहुताशनसोमपानिलखाकृतिं

चन्द्रशेखरमाश्रये मम किं करिष्यति वै यमः ॥८॥

विश्वसृष्टिविधायिनं पुनरेव पालनतत्परं

संहरन्तमपि प्रपञ्चमशेषलोकनिवासिनम ।

कीडयन्तमहर्निशं गणनाथयूथसमन्वितं

चन्द्रशेखरमाश्रये मम किं करिष्यति वै यमः ॥९॥

मृत्युभीतमृकण्डुसूनुकृतस्तवं शिवसन्निधौ

यत्र कुत्र च यः पठेन्न हि तस्य मृत्युभयं भवेत ।

पूर्णमायुररोगतामखिलार्थसंपदमादरात

चन्द्रशेखर एव तस्य ददाति मुक्तिमयत्नतः ॥१०॥

॥ इति श्रीचन्द्रशेखराष्टकस्तोत्रं संपूर्णम ॥

Related posts

‘गुरु आपके उपकार का,कैसे चुकाऊं मोल’, इन बेस्ट मैसेज से भेजें गुरु पूर्णिमा की शुभकामनाए

admin

28 सितंबर गुरुवार का राशिफल

admin

जाने शीतला सप्तमी कब है, शीतला माता की होती है पूजा

admin

Leave a Comment