0.9 C
New York
February 26, 2024
Nation Issue
देश

न्यायालय ने उपमुख्यमंत्री की नियुक्ति के चलन को चुनौती देने वाली जनहित याचिका खारिज की

नई दिल्ली
उच्चतम न्यायालय ने उपमुख्यमंत्री नियुक्त करने के चलन को चुनौती देने वाली एक जनहित याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया और कहा कि यह चलन संविधान का उल्लंघन नहीं करता।

प्रधान न्यायाधीश डी वाई चंद्रचूड़, न्यायमूर्ति जे बी पारदीवाला और न्यायमूर्ति मनोज मिश्रा की पीठ ने 'पब्लिक पॉलिटिकल पार्टी' द्वारा दायर जनहित याचिका को खारिज करते हुए कहा, ''यह सिर्फ एक (पद का) नाम है और भले ही आप किसी को उपमुख्यमंत्री कहते हैं, इससे दर्जा नहीं बदलता।''

पीठ ने कहा, ''सबसे पहले और सबसे जरूरी बात यह है कि एक उपमुख्यमंत्री राज्य सरकार में मंत्री होता है और इससे संविधान का उल्लंघन नहीं होता।''

याचिकाकर्ता की ओर से पेश वकील ने कहा कि राज्य उपमुख्यमंत्री नियुक्त करके गलत उदाहरण पेश कर रहे हैं और यह संविधान के अनुच्छेद 14 (समानता का अधिकार) का उल्लंघन है। पीठ ने कहा कि ऐसी नियुक्तियां किसी संवैधानिक प्रावधान का उल्लंघन नहीं करतीं।

 

Related posts

पश्चिमोत्तर, निकटवर्ती मध्य भारत के कुछ हिस्सों में घने से बहुत घना कोहरा: मौसम विभाग

admin

महाराष्ट्र: पालघर में नौ महीने से फरार दोहरे हत्याकांड का आरोपी गिरफ्तार

admin

पेश हुआ लोकसभा में महिला आरक्षण बिल, ‘नारी शक्ति वंदन अधिनियम’ रखा है नाम

admin

Leave a Comment